कोरोना महामारी के चलते बंद हुए स्कूलों को अब शिक्षा विभाग खोलने पर विचार कर रहा है। शिक्षा निदेशालय जम्मू ने इस संदर्भ में सभी जिलों के मुख्य शिक्षा अधिकारियों से सुझाव मांगे हैं और निर्देश जारी किए हैं कि वे बच्चों, उनके अभिभावकों स्कूल की कमेटियों से राय लेकर एक सप्ताह के भीतर रिपोर्ट पेश करें।

शिक्षा विभाग ने यह विचार जम्मू संभाग के विटंर जोन में चल रही आफ लाइन कोचिंग क्लासेस जम्मू संभाग के सभी जिलों में चल रही नौवीं से बारहवीं तक की कक्षाओं में बच्चों की संख्या को देखते हुए किया है। इन कक्षाओं में बच्चों की अच्व्छी खासी संख्या पहुंच रही है जिसको देखते हुए शिक्षा विभाग ने अब स्कूलों को पूरी तरह से खोलने को लेकर रणनीति बनाने का फैसला किया है।

शिक्षा निदेशक जम्मू अनुराधा गुप्ता का कहना है कि अभी स्कूल खोलने को लेकर कोई तिथि निर्धारित नहीं की गई है। अभी तो सभी मुख्य शिक्षा अधिकारियोे को निर्देश दिए गए हैं कि वे अपने अपने इलाकों का सर्वे कर वहां से लोगों की सलाह लें। अगर स्कूल खोले भी जाते हैं तो वहां पर कक्षाएं किस प्रकार लगाई जाएंगी, इस पर अलग से विचार किया जाएगा। स्कूलों में बच्चों को वालंटियर बुलाया जा सकता है।

उन पर किसी तरह का कोई दबाव नहीं बनाया जाएगा। शिक्षा विभाग ने नवंबर महीने में नौवीं से बारहवीं के बच्चों की कक्षाएं लगाना शुरू कर दिया था। इन कक्षाओं में भी अभिभावकों की सहमति के बाद ही बच्चों को बैठने की अनुमति दी जा रही है। 

LEAVE A REPLY