बदले मौसम के कारण जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राज मार्ग पर मंगलवार को वाहनों की आवाजाही ठप रही। कई जगहों पर गिरा मलबा तो साफ कर दिया गया है, मगर केफेटेरिया मोड़ पर अभी भी काफी मलबा है। मौसम विभाग ने आज बुधवार को भारी बारिश की संभावना जताई है। इसलिए ट्रैफिक पुलिस लोगों से घाटी और रामबन की तरफ यात्रा न करने की सलाह दे रखी है।
मौसम के बदलने से सोमवार रात में हुई बारिश से चमलवास, शावनवास, मारोग, डिगडोल सहित अन्य स्थानों पर पहाड़ों से मलबा व पत्थर गिरने की वजह से मंगलवार को जम्मू श्रीनगर हाईवे बंद रहा। इस बीच मलबा हटा कर रास्ते में फंसे वाहनों को सुरक्षित स्थानों की तरफ निकाल दिया गया। वहीं रामबन जिला के कैफेटेरिया मोड़ पर मलबा हटाने का काम जारी था।
मलबा हटने के बाद ही स्थानीय रूट की बसों व अन्य वाहनों को निकाला जाएगा। मौसम में सुधार नहीं आया तो हाईवे बंद होने से जम्मू में फंसे लोगों की परेशानी और बढ़ सकती है। मौसम विभाग के अनुसार अगले 24 घंटे में भारी बारिश की संभावना है। इस बारे में एसएसपी ट्रैफिक नेशनल हाईवे रामबन जेएस जौहर के अनुसार बारिश के कारण विभिन्न स्थानों पर भूस्खलन, पत्थर गिरने और कीचड़ युक्त मलबा आने से हाईवे दिनभर बंद ही रहा।
मौसम विभाग ने अगले 24 घंटों में भारी बारिश की चेतावनी दी है। रात को कितनी बारिश होती है और मौसम कैसा रहता है तथा हाईवे की क्या स्थिति रहेगी, इसे देख कर ही बुधवार को हाईवे खोलने का फैसला लिया जाएगा।
जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर लगातार दूसरे दिन भी यातायात बहाल न होने की वजह से दोनों ओर तीन हजार से अधिक वाहन फंसे हुए हैं। ट्रैफिक विभाग के अधिकारियों का कहना है कि हाईवे को बंद करने का फैसला लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखकर लिया गया है। यदि मौसम साफ रहता है तो हाईवे पर वाहनों की आवाजाही को बहाल कर दिया जाएगा।

LEAVE A REPLY