जम्मू रेलवे स्टेशन पर कुछ ऐसे भी मजदूर है जिनके पास वापस अपने घर जाने तक का किराया नहीं है. इन लोगों का कहना है कि सरकार को इनके बारे में सोचना चाहिए और इन्हें जल्द से जल्द अपने घर वापस भेजा जाना चाहिए.

जम्मू: पूरे देश की तरह जम्मू-कश्मीर में भी करोना तेजी से अपना कहर बरपा रहा है और जम्मू में कोरोना संक्रमित मरीजों के साथ-साथ इस महामारी से मरने वाले लोगों की तादाद लगातार बढ़ रही है. प्रदेश में तेज़ी से फैल रहे कोरोना के चलते यहां काम कर रहे दूसरे राज्यों के मजदूर अब तेजी से वापस अपने घर जाना शुरू हो गए हैं.

शुक्रवार को जम्मूकश्मीर में रिकॉर्ड मामले
शुक्रवार को जम्मू कश्मीर में रिकॉर्ड 2000 से अधिक नए कोरोना संक्रमित मामले दर्ज किए गए, जबकि इस महामारी से मरने वालों की संख्या 17 रही. गौरतलब है कि कोरोना महामारी के दौरान यह प्रदेश में इस बीमारी से मारे जाने वाले लोगों की अब तक की सबसे अधिक संख्या है. प्रदेश में कोरोना से बचाव के लिए जारी सख्त दिशानिर्देशों के चलते अब जम्मू कश्मीर में काम करने वाले दूसरे राज्यों के मजदूरों पर काम का संकट छा गया है.

अपने घरों को लौट रहे मजदूर
लगातार बढ़ते कोरोना के मामलों के बीच काम न मिलने के चलते जम्मू कश्मीर में दूसरे राज्यों से आए मजदूर अब वापस अपने घरों का रुख कर रहे हैं. जम्मू रेलवे स्टेशन पर आलम यह है कि बाहरी राज्यों के मजदूर लगातार यहां से दिल्ली और दूसरे राज्यों में जाने वाली ट्रेनों में सवार होकर अपने घरों की तरफ लौट रहे हैं. जम्मू में काम कर रहे मजदूरों का दावा है कोरोना महामारी के चलते उनके काम पर व्यापक असर पड़ा है और उन्हें इन दिनों काम नहीं मिल रहा. काम न मिलने से उनके पास पैसे की किल्लत हो रही है और ऐसे में उनके पास वापस अपने घर लौटने के अलावा कोई दूसरा चारा नहीं है.

जम्मूकश्मीर प्रशासन लॉकडाउन के पक्ष में नहीं
जम्मू रेलवे स्टेशन पर कुछ ऐसे भी मजदूर है जिनके पास वापस अपने घर जाने तक का किराया नहीं है. इन लोगों का कहना है कि सरकार को इनके बारे में सोचना चाहिए और इन्हें जल्द से जल्द अपने घर वापस भेजा जाना चाहिए. वहीं जम्मू कश्मीर सरकार का दावा है कि प्रदेश में अभी पूरी तरह से लॉकडाउन लगाने के पक्ष में नहीं है क्योंकि लॉकडाउन का सीधा असर प्रदेश की अर्थव्यवस्था पर पड़ेगा.

 

LEAVE A REPLY