जम्मू रेलवे स्टेशन के बाहर दो दुकानों में संदिग्ध परिस्थितियों में आग लगने से लाखों रुपयों का सामान जलकर राख हो गया। दोनों दुकानों मेंं सुरक्षाबलों की वर्दियां, स्लीपिंग बैग आदि का सामान बिक्री होता था और दोनों दो भाइयों की हैं जो आग की भेंट चढ़ी हैं।
आग लगने की इस घटना का शुक्रवार सुबह उस समय पता चला जब कुछ लोगों ने दुकानों के अंदर से धुंआ उठते देखा। दुकानों से धुंआ उठते देख किसी से दुकान के मालिकों को फोन कर दिया और सूचना मिलते ही दाेनों दुकान मालिक मौके पर पहुंच गए। इतने में दुकान मालिकों ने फायर ब्रिगेड को भी सूचित कर दिया था और कुछ ही देर में गांधी नगर फायर स्टेशन से फायर ब्रिगेड की गाड़ियां भी मौके पर पहुंच गई।
वहीं दुकान मालिक सचिन ने बताया कि जब वे मौके पर पहुंचे तो उन्हें शटर उठाने का मौका भी नहीं मिला। फायर ब्रिगेड कर्मियों ने शटर पर पानी की बौछार कर उसे ठंडा किया और जब दुकानों के शटर खाेले गए तो अंदर सारा सामान जल चुका था। दोनाें दुकानों में लाखों रुपयों की सुरक्षाबलों की वर्दियां, स्लीपिंग बैग और अन्य सामान था जो पूरी तरह से राख बन चुका था। वहीं दूसरे दुकानदार रवि का कहना था कि उनका पहले ही काम कोरोना के चलते चौपट हो चुका था।
अब हालात कुछ बेहतर होने लगे तो उन्होंने सामान दुकान में डलवाया था लेकिन सारा सामान जल गया। रवि ने बताया कि सेना, बीएसएफ आदि की वर्दियां दुकानों में पड़ी थी। उधर इस घटना के बाद पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने इस संदर्भ में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। आग लगने के पीछे शार्ट सर्किट कारण माना जा रहा है।

LEAVE A REPLY