क्षेत्र के खारियां गांव में एक नाई की दुकान में मजाक में कमेंट करने पर एक युवक ने यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ता के दूसरे के पेट में कैंची घोंप दी, जिससे उसकी मौत हो गई। मृत युवक मुकेश रैना (38) पुत्र प्रकाशचंद्र मीरां साहिब के बृजनगर गांव का रहने वाला था।हमलावर सुरेंद्र कुमार पुत्र जगदीशलाल भी इसी गांव का है। पुलिस के मुताबिक, सुरेंद्र कुमार की मानसिक हालत ठीक नहीं है और वह इधर-उधर घूमता रहता है। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने हमलावर को गिरफ्तार कर लिया। जानकारी के अनुसार, बृजनगर और खारियां गांव अगल-बगल हैं। खारियां गांव में सड़क के किनारे एक नाई की दुकान है, जहां ग्रामीण बाल कटवाने जाते हैं। सोमवार को भी वहां कई लोग बाल कटवाने के लिए पहुंचे थे। मुकेश भी वहां मौजूद था। इसी बीच सुरेंद्र भी दुकान में आया और बैठ गया। उसके आते ही मुकेश ने मजाक-मजाक में उस पर कुछ कमेंट किया, जिस पर सुरेंद्र अचानक भड़क गया।
वह इतने गुस्से में आ गया कि जब तक लोग कुछ समझ पाते उसने नाई की दुकान से एक कैंची उठाई और मुकेश के पेट में दे मारी। इससे मुकेश गंभीर रूप से घायल होकर वहीं गिर गया। उसका खून दुकान में फैल गया। इस बीच दुकान में मौजूद लोग मुकेश को बचाने के बजाय वहां से भागने लगे। बाद में कुछ स्थानीय लोगों ने पुलिस को सूचित किया। पुलिस ने मुकेश को लहूलुहान हालत में जीएमसी अस्पताल पहुंचाया, जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई।
थाना प्रभारी सुल्तान मिर्जा ने बताया कि मुकेश और सुरेंद्र दोनों का एक ही गांव बृजनगर है। इसलिए वे एक-दूसरे को अच्छी तरह जानते थे। सुरेंद्र की मानसिक हालत ठीक नहीं है, लेकिन वह इस तरह आपा खो देगा, इस पर नाई की दुकान में बैठे किसी भी व्यक्ति को यकीन नहीं था। बहरहाल, आरोपित सुरेंद्र को गिरफ्तार कर पुलिस न उसके खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है। तीन भाइयों में से सबसे छोटा था मुकेश मुकेश की अभी शादी नहीं हुई थी। वह तीन भाइयों में सबसे छोटा था। मुकेश के पिता एसआरटीसी से सेवानिवृत्त हुए हैं और उसके दोनों भाई प्राइवेट नौकरी करते हैं।
गांव में परिवार के पास कुछ जमीन है, जिस पर खेती से परिवार का गुजर-बसर चलता है। मुकेश की मौत के बाद परिवार वालों का रो-रोकर बुरा हाल है। ग्रामीणों ने बताया कि मुकेश बहुत मिलनसार युवक था। वह समाज सेवा के कार्यो में भी बढ़ चढ़कर हिस्सा लेता था और सभी से हंस बोलकर बात करता था। उसकी मौत से बृजनगर गांव में शोक की लहर है। खारियां पंचायत से मुकेश ने लड़ा था पंच का चुनाव, महज पांच वोट से मिली थी हार यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ता मुकेश रैना ने खारियां पंचायत से पंच का चुनाव भी लड़ा था, हालांकि कड़े मुकाबले में वह पांच वोट से हार गया था।
मुकेश रैना के मीरां साहिब क्षेत्र मेंकाफी समर्थक हैं। उसकी हत्या के बाद इलाके में उनके समर्थकों में काफी रोष है। उनका कहना है कि मुकेश का कभी किसी के साथ कोई विवाद नहीं रहा। जिस युवक ने मुकेश पर कैंची से वार किया है, उसका भी कोई पुराना अपराधिक रिकार्ड नहीं है। ऐसे में उन्हें यकीन नहीं हो रहा है कि मामूली मजाक में उसने क्यों मुकेश की जान ले ली। स्थानीय लोग कह रहे हैं कि हमलावर की मानसिक हालत ठीक नहीं है, हालांकि पुलिस उसकी मेडिकल जांच करवाने की बात कह रही है। हत्या की इस वारदात के बाद क्षेत्र में तनाव के मद्देनजर पुलिस ने इलाके में चौकसी कड़ी कर दी है।

LEAVE A REPLY