नहर में गिरी कार हादसे में जिन दो पंचायतों के चार सदस्याें की मौत से हर तरफ मातम पसरा हुआ है, उनके प्रतिनिधियों व स्वजनाें ने हादसे के जिम्मेवार सिंचाई विभाग के खिलाफ पुलिस को मामला दर्ज करने की मांग की है।
पंचायत बहादुरपुर के सरपंच ज्योति कुमार तथा रंगूर पंचायत के सरपंच काली दास सहित मृतकों के स्वजनाें व गणमान्य लोगाें ने कहा कि यह हादसा सिंचाई विभाग की लापरवाही का नतीजा है। लिहाजा मीरा साहिब पुलिस पहले हादसे के जिम्मेवार सिंचाई विभाग के खिलाफ मामला दर्ज करें, उसके बाद चालक व हादसे के कारणों पर अपनी तहकीकात करे।एक ही परिवार के चार सदस्य जिनमें दो मासूम बच्चियां भी इस हादसे में काल का ग्रास बनी हैं, उनके स्वजन इस सदमे से उभर नहीं पा रहे हैं। खासतौर पर आठ माह की बच्ची प्राची पुत्री गणेश चौधरी निवासी बहादुर पुर बिश्नाह तथा रंगूर निवासी कमल कुमार की डेढ़ वर्षीय दिवांशी उर्फ मिष्टी की मौत का सदमा लोगाें के दिलों व दिमाग पर असर कर गया है।
लोग गुस्से व गम में पागल हैं और इस हादसे के जिम्मेवार सिंचाई विभाग के खिलाफ सड़कों पर उतरने की सोच रहे हैं। स्थानीय पंचायतों के सरपंच सदस्यों का कहना है कि पता नहीं कितने समय से मीरा साहिब डाक बंगला रणबीर नहर का यह हादसा जोन कीमती जिंदगियों को मौत के आगोश में समा चुका है। अभी बीते शुक्रवार की देर रात को हुए उसी एक्सीडेंट जोन पर हादसे ने एक हंसते खेलते परिवार की खुशियाें को ग्रहण लगाने का काम कर दिया।
यह हादसा सिंचाई विभाग की लापरवाही का नतीजा है और इसे इस लापरवाही को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्हाेंने मामले की जांच कर रही मीरा साहिब पुलिस से पहले सिंचाई विभाग के खिलाफ मामला दर्ज करने और बाद में हादसे की कार्रवाई पर तहकीकात करने की अपील की है। ऐसा न होने पर उन्होंने पुलिस प्रशासन व सरकार के खिलाफ रोष प्रदर्शन की चेतावनी भी जारी की है।

LEAVE A REPLY