उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कहा कि जम्मू कश्मीर पुलिस दुनिया की उन चुनिंदा पुलिस में एक है, जो सामान्य पुलिस कार्यप्रणाली से आगे बढ़कर आतंक के खिलाफ भी सक्रिय भूमिका निभा रही है। मैं ड्यूटी के दौरान और आतंकियों से लड़ते हुए अपना सर्वस्व न्यौछावर करने वाले सभी पुलिस शहीदों को शत शत नमन करते हुए श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। उन्होंने इस अवसर पर शहीद पुलिसकर्मियों के बच्चों के लिए श्रीनगर में एक बोर्डिंग स्कूल स्थापित करने का एलान भी किया।
उपराज्यपाल ने कहा कि पुलिस व अन्य सुरक्षा एजेंसियां जम्मू कश्मीर में शांति, सुरक्षा और विश्वास का वातावरण बहाल करने में सराहनीय भूमिका निभा रही हैं। उन्होंने कहा कि हमारी पुलिस और अन्य सुरक्षा एजेंसियां आतंकवाद को कुचलने और कानून व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने से लेकर आपात परिस्थितियों में भी जनसेवा में लगी हैं। कोरोना महामारी के खिलाफ चलाए गए अभियान में पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों ने प्रशंसनीय काम किया है। किसी भी आपदा के समय पुलिस हमेशा आगे रहती है।
पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने कहा कि अपने अधिकांश कमांडरों के मारे जाने से आतंकी बौखला चुके हैं। बचे खुचे आतंकी एलओसी पार बैठे अपने आकाओं के इशारे पर कश्मीर में निर्दाेष नागरिकों व अल्पसंख्यकों की हत्या कर डर का माहौल पैदा करना चाहते हैं। वह विभिन्न समुदायों के बीच सांप्रदायिक तनाव पैदा करना चाहते हैं इसलिए गैर मुस्लिमों को मुस्लिमों से अलग कर कत्ल करते हैं। कश्मीर और मानवता के दुश्मनों को बख्शा नहीं जाएगा। कई आम कश्मीरियों की रोजी रोटी पर भी संकट पैदा हुआ है। पटरी पर लौट रहा पर्यटन उद्योग फिर प्रभावित हुआ है।

पुलिसकर्मियों की वीरता के किस्से पहुंचे जनमानस में :

​उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कहा कि आज पूरा देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। स्वतंत्रता सेनानियों को याद किया जा रहा है। ऐसे में जरूरी है कि आम लोगों के बीच विशेषकर युवाओं और बच्चों में हम अपने बहादुर पुलिसकर्मियों की वीरता, बलिदान और राष्ट्रभक्ति के किस्सों को पहुंचाएं। उनके बारे में जानकारी प्रचारित करें ताकि जम्मू कश्मीर पुलिस की साहस, त्याग और बलिदान की गौरवशाली विरासत को आगे बढ़ाया जा सके। इससे लोग प्रेरणा लें।
इस वर्ष अब तक 370 जवान और अधिकारी हुए शहीद : पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने बताया कि इस वर्ष अब तक पूरे देश में ड्यूटी के दौरान पुलिस व अन्य सुरक्षा एजेंसियों के 370 जवान व अधिकारी शहीद हुए हैं। उन्होंने शहीद पुलिसकर्मियों को श्रद्धाजंलि अर्पित करते हुए कहा कि जम्मू कश्मीर पुलिस प्रदेश और देश में शांति, सुरक्षा, एकता,अखंडता के लिए अपनी हर बलिदान देने को तैयार है।

LEAVE A REPLY