बढ़ते करोना संक्रमण,तीसरी लहर और कोविड़ टिको को अधिक किफायती बनाने के लिए,जल्द ही केंद्र द्वारा कोविड़ टिको की कीमत को सीमित किया जा सकता है। कोविड-19 और कोवैक्सीन की कीमत में बदलाव लाया जा सकता है फिलहाल इंतजार है तो राष्ट्रीय औषधि मूल्य निर्धारण प्राधिकरण से मंजूरी मिलने का,जिसके उपरांत प्रति खुराक ₹275 और अतिरिक्त सेवा शुल्क ₹150 होने की संभावना जताई जा रही है।आधिकारिक सूत्रों ने बताया है कि राष्ट्रीय औषधि मूल्य निर्धारण प्राधिकरण (एनपीपीए) को टीकों को किफायती बनाने के लिए कीमतों को सीमित करने की दिशा में काम करना शुरू करने का निर्देश दिया गया है।नवीनतम चार्जेस के अनुसार कोवैक्सीन की कीमत 1,200 रुपये प्रति खुराक और कोविडशील्ड की कीमत निजी 780 रुपये तय।इसके अतिरिक्त कीमतों में 150 रुपये का सर्विस चार्ज शामिल है।दोनों टीके देश में केवल आपातकालीन उपयोग के लिए अधिकृत हैं।

19 जनवरी को केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन की कोविड़-19 पर विषय विशेषज्ञ समिति ने कुछ शर्तों के अधीन वयस्क आबादी में उपयोग के लिए कोविशील्ड और कोवैक्सिन को नियमित रूप से बाजार की मंजूरी देने की सिफारिश की।जिसके चलते “एनपीपीए को टीकों की कीमत को सीमित करने की दिशा में काम करने के लिए कहा गया है।वहीं जो अब नई कीमतें तय की गई हैं।उन कीमतों के अनुसार कीमत 275 रुपये प्रति खुराक और 150 रुपये के अतिरिक्त सेवा शुल्क पर सीमित होने की संभावना है।

 

इसके साथ ही सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के निदेशक (सरकार और नियामक मामलों) प्रकाश कुमार सिंह ने 25 अक्टूबर को ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया को एक आवेदन जमा किया था,जिसमें इसके कोविड़शिल्ड व वैक्सीन के लिए नियमित बाजार की मंजूरी मांगी गई थी।वहीं कुछ हफ़्ते पहले ही भारत बायोटेक के पूर्णकालिक निदेशक वी. कृष्ण मोहन ने कोवैक्सिन के लिए नियमित बाजार प्राधिकरण की मांग करते हुए,पूर्व-नैदानिक ​​​​और नैदानिक ​​​​डेटा के साथ-साथ रसायन विज्ञान, निर्माण और नियंत्रण पर पूरी जानकारी प्रस्तुत की।3 जनवरी, 2021 को कोवैक्सिन और कोविड़ शील्ड को ईयूए को दिया गया था।

 

परमीत कौर

LEAVE A REPLY