जम्मू। जम्मू-कश्मीर में अब हायर सेकेंडरी स्कूलों में हमेशा की तरह होने वाली लेक्चरर की नई भर्ती नहीं होने वाली है। इसके लिए पदोन्नति से ही इन पदों को भरा जाने वाला है। जम्मू—कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद नए नियमों के अनुसार इसके लिए प्राइमरी, मिडिल और हाई स्कूल के अध्यापकों को ही पदोन्नत किया जाने वाला है। इसके साथ ही हाई स्कूलों के अध्यापकों को लेक्चरर और लेक्चरर को सीनियर लेक्चरर बनाया जाएगा। इस बारे में सूत्रों के अनुसार स्कूल शिक्षा विभाग पदोन्नति के लिए वरिष्ठता सूची तैयार हो रही है। जिन स्कूलों में पद रिक्त हैं, उन्हें भरने के लिए नई भर्ती नहीं की जाएगी। नियुक्तियां अनुबंध पर न होकर नियमित होंगी। इसके लिए दो साल पहले अनुबंधित आधार पर भर्ती किए लेक्चररों की सेवाएं खत्म कर दी गई है। जिसके चलते तमाम पद खाली पड़े हुए हैं, जिन्हें पदोन्नति से भरा जाएगा।
इसके बारे में बताते हुए डोडा के मुख्य शिक्षा अधिकारी प्रह्लाद भगत ने बताया कि जिले के सरकारी स्कूलों में 50 प्रतिशत लेक्चररों के पद खाली पड़े हैं। इसकी पदोन्नति से भी उन्हें नहीं भरा गया है। तमाम विषयों के परास्नातक शिक्षक ही विद्यार्थियों को पढ़ाते हैं। इसके साथ ही मुख्य शिक्षा अधिकारी प्रेम नाथ ने बताया कि कठुआ जिले के हायर सेकेंडरी स्कूलों में कई विषयों में लेक्चरर के लगभग 207 पद खाली पड़े हुए हैं।

अनुबंधित नियुक्तियों का नियम सरकार ने खत्म किया

मदन गोपाल शर्मा संयुक्त सचिव स्कूल शिक्षा विभाग जम्मू ने इस बारे में बताया कि सरकारी स्कूलों में कुछ पद भर दिए गए हैं और कुछ खाली हैं। खाली पदों को पदोन्नति से भरा जाएगा। अनुबंधित नियुक्तियों का नियम सरकार ने खत्म कर दिया है।

LEAVE A REPLY