जम्मू के होटलों, बार व रेस्तरां में काम करके अपना और अपने परिवारों का पेट भरने वाले स्टाफ ने साप्ताहिक पाबंदियों को हआने की ज़रूरत पर बल दिया है। इन लोगों का कहना है कि पाबंदियों उनके लिए जी का जंजाल साबित हो रहीं हैं लिहाज़ा प्रषासन को उनके बारे में भी सोचना चाहिए। इन लोगों ने जम्मू में आज एक प्रेस कां1ेंस के ज़रिए अपना दुख बयान करते हुए प्रषासन से मदद की गुहार लगाई।

LEAVE A REPLY