आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सीमावर्ती और दूरदराज के इलाकों में रहने वाले लोगों तक पहुंच बनाने के लिए केंद्र सरकार करीब 1.5 लाख डीडी डिश निश्शुल्क बांट रही है। इसके साथ ही इससे सीमावर्ती इलाकों की आबादी पाकिस्तानी चैनलों पर चलाए जाने वाले दुष्प्रचार से बचेगी। साथ ही वह केंद्र सरकार द्वारा चलाई जा रही जनकल्याण की योजनाओं से लगातार अवगत होते हुए मनोरंजन के विभिन्न साधन भी प्राप्त करेगी। बताया यह जा रहा है कि केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के सचिव अपूर्व चंद्रा ने मंगलवार को गांदरबल में कंगन तहसील के मरगुंड के इलाकों का दौरा करते हुए दी है। निश्शुल्क बांटने का फैसलाअपूर्व चंद्रा ने बताया कि केंद्र सरकार ने सीमावर्ती इलाकों और दूरदराज के उन क्षेत्रों में जहां केबल सेवा उपलब्ध नहीं है, वहां के आम लोगों तक पहुंच बनाने के लिए डीडी डिश निश्शुल्क बांटने का फैसला किया है। इसके लिए टेंडर प्रक्रिया जारी है और जल्द ही इसे मूर्त रूप प्रदान कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि यह योजना संबंधित क्षेत्रीय एजेंसियों के फीडबैक के आधार पर तैयार की गई है। सटीक जानकारी के साथ जनता तकउन्होंने कहा कि अतीत में कई कठिन चुनौतियों के बावजूद दूरदर्शन केंद्र श्रीनगर के अधिकारियों और कर्मियों ने जिस जीवटता से काम किया है, उसके लिए वह प्रशंसा के पात्र हैं। यह दूरदर्शन केंद्र स्थानीय कला-संस्कृति और सभ्यता का अपने कार्यक्रमों के जरिये प्रतिनिधित्व करते हुए बिल्कुल सही और सटीक जानकारी के साथ जनता तक पहुंच बना रहा है। मरगुंड में स्थानीय ग्रामीणों के साथ चर्चा के दौरान उन्होंने डीडी निश्शुल्क डिश सेवा का इस्तेमाल करने वालों से उनकी राय भी जानी।

LEAVE A REPLY