आपकी जाकनारी के लिए बता दें कि संपत्ति को लेकर श्रीनगर में हुई एक वारदात में पिता-पुत्र के रिश्ते तार-तार हो गए। इसके साथ ही दो भाइयों ने मिलकर अपने पिता की निर्ममता से हत्या कर दी। इतना ही नहीं, गुनाह छिपाने के लिए हत्या को हादसे दिखाने के लिए शव को डल झील में फेंक दिया। यह दहला देने वाली यह घटना श्रीनगर के इलाहीबाग इलाके की है। पुलिस ने इस हत्या की साजिश सुलझा ली है। शनिवार को दोनों आरोपितों को हिरासत में ले लिया गया है।
नगीन पुलिस थाने के प्रभारी लतीफ अहमद ने बताया कि सात अप्रैल को उन्हें सूचना मिली थी कि शहर के हबक इलाके के निकट डल झील में शव पड़ा है। इसकी पहचान की गई तो मृतक 62 वर्षीय खुर्शीद अहमद तोता पुत्र गुलाम नबी निवासी इलाहीबाग बछपोरा था। शव के गले पर घाव के निशान थे। इससे पुलिस को आशंका हुई कि खुर्शीद का गला घोंटा गया है। थाना प्रभारी के अनुसार, पूछताछ में मृतक के स्वजन ने कहा था कि खुर्शीद पांच अप्रैल को घर से किसी काम के लिए निकला था, लेकिन फिर वापस लौट कर नहीं आया। हालांकि, पुलिस को हत्या का शव हुआ। इसलिए धारा 302 के तहत मामला दर्ज कर जांच आगे बढ़ाई गई। मृतक के कुछ मोहल्ले वालों व कुछ और लोगों से पूछताछ की गई। इसमें शक की सूई उसके दो बेटों के इर्द-गिर्द घूमने लगी। दोनों से पूछताछ की गई। थाना प्रभारी के अनुसार दोनों पहले कुछ नहीं बोले, लेकिन सख्ती किए जाने पर दोनों ने अपराध स्वीकार कर लिया। दोनों भाइयों ने कबूला कि उन्होंने ही अपने पिता की हत्या कर दी। आरोपितों ने बताया कि पांच अप्रैल की शाम को संपत्ति और अन्य कुछ मामलों को लेकर उनका अपने पिता के साथ झगड़ा हो गया था। इसी दौरान गुस्से में आकर अपने पिता का गला घोंट दिया था।

रातभर घर में छिपाए रखा शव, फिर डल में फेंका

हत्या के बाद शव को रातभर घर में ही छिपाए रखा। छह अप्रैल को मौका देखकर शव को अपनी कार में डाला। इसके बाद घर से 5-6 किलोमीटर दूर हबक इलाके के निकट डल झील में फेंक दिया। सात अप्रैल को शव पुलिस ने बरामद किया था। थाना प्रभारी ने कहा कि दोनों आरोपियों को हिरासत में लिया गया है।

LEAVE A REPLY