आपकी जानकारी के ​लिए बता दें कि नदी-नालों से खनन करने पर प्रतिबंध लगने के बावजूद क्षेत्र में धड़ल्ले से सिंबल कैंप के साथ लगती निकी तवी से ट्रैक्टर चालक दिनदहाड़े अवैध रूप से खनन कर निर्माण सामग्री ले जा रहे हैं बावजूद इसके पुलिस प्रशासन ऐसे लोगों के खिलाफ कोई भी कार्रवाई नहीं कर रहा जिसके चलते लोगों में पुलिस के प्रति आक्रोश है। बड़ी बात यह है कि रात को खनन माफिया सक्रिय रहता है मगर अब दिन में ही ट्रैक्टर चालक धड़ल्ले से निर्माण सामग्री ले जा रहे हैं और सड़क मार्ग के किनारे पुलिस के नाके होने के बावजूद भी नहीं पूछा जाता।
साथ ही लोगों के अनुसार बिना पुलिस की मिलीभगत के कारण इस तरह का गोरख धंधा नहीं चल सकता है। स्थानीय लोगों किसान नेता सुभाष दसगोतरा का कहना है कि क्षेत्र में आज अनेक गांव में ठेकेदार मार्ग किनारे निर्माण सामग्री का डंप करके महंगे दामों पर लोगों को बेच रहे हैं और आज एक गरीब व्यक्ति के लिए अपना मकान बनाना काफी मुश्किल होता जा रहा है। उनका कहना है कि माफिया के लोगों को पुलिस का भी कोई डर नहीं है और बिना पुलिस की मिलीभगत के खनन कार्य करने वाले लोग अपना काम कर ही नहीं सकते ।
बताया यह भी जा रहा है कि उन्होंने कहा कि माननीय न्यायालय की ओर से जल्द से जल्द नदी नालों से खनन करने पर लगाई गई रोक को हटा लेना चाहिए क्योंकि अगर जम्मू में रोक लगी है तो सांबा कठुआ और अन्य दूसरे जिलों से निर्माण सामग्री धड़ल्ले से आ रही है लोगों को महंगे दामों पर मिल रही है अगर रोक हट जाती है तो इसका गरीब लोगों को काफी लाभ मिलेगा और लोग भी अपने मकान बना सकेंगे।
उधर इस संबंध में पूछे जाने पर थाना प्रभारी जहीर मुश्ताक ने बताया कि पुलिस लगातार खनन माफिया के खिलाफ मुहिम छेड़े हुए हैं व हर रोज ऐसे कई वाहन सीज भी किए जाते हैं जो कि अवैध रूप से खनन कर निर्माण सामग्री लेकर आते हैं फिर भी पुलिस की ओर से अब अपनी कार्रवाई में और तेजी लाई जाएगी।

LEAVE A REPLY