जम्मू और कश्मीर में भारी बारिश के कारण बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं। देश भर में कई राज्य भारी बारिश का सामना कर रहे हैं। महाराष्ट्र और गुजरात समेत कई राज्यों में इन दिनों बाढ़ जैसे हालात हो रखे हैं।

जम्मू-कश्मीर के डोडा जिले के कहारा गांव के पास मंगलवार को रात भर हुई भारी बारिश से बाढ़ आ गई जिससे इलाके में काफी नुकसान हुआ है। एक स्थानीय ने कहा, ‘गांव का क्षेत्र वर्तमान में बहुत भारी वर्षा के कारण बाढ़ का सामना कर रहा है, जिससे कई घर नष्ट हो गए हैं और संपत्ति का नुकसान हुआ है, जिसमें अल्लामा इकबाल मेमोरियल अकादमी और पर्यटन के भवन और मैदान शामिल हैं।’
वहीं, कुछ दिनों लगातार ख्हलचिलाती धूप और भारी उमस के बाद देर रात से शुरू हुई वर्षा का सिलसिला बुधवार को जारी है। मौसम विभाग से मिली जानकारी अनुसार अगले 24 घंटों तक रुक-रुक कर वर्षा जारी रहेगी। आगे भी हल्के बादल छाए रहेंगे।
बरसात अपने रंग में है।पिछले 12 घंटों में जम्मू-कश्मीर के लगभग सभी क्षेत्रों में रूक-रुक कर वर्षा जारी है।दिन भर कहीं रिमझिम तो कहीं हल्की से मध्यम और कुछ इलाकों में भारी बारिश होती रहने की संभावना है। इससे अधिकतर जल स्रोतों में जलस्तर बढ़ा हुआ है। दरिया चिनाब का जल स्तर खतरे के निशान फिलहाल नीचे चल रहा है। समाचार लिखे जाने तक जल स्तर बढ़ रहा था।तवी का जल स्तर भी बढ़ रहा है।
देर रात से ही बादल मंडराने लगे थे।रिमझिम जारी रही।पिछले 12 घंटों में हुई वर्षा के बाद तापमान में भी गिरावट आई है। मौसम सुहावना रहने के चलते दिन में ऐसी, कूलर की जरूरत भी कम ही महसूस हो रही है।

बुधवार तड़के हुई वर्षा सुबह भी मंडराते बादलों के बीच हुई। मौसम सुहावना बना हुआ है।फिलहाल उमस से भी राहत मिली हुई है।रिमझिम और हल्की बूंदाबांदी के बीच मौसम सुहावना बना हुआ है। मौसम विभाग से मिली जानकारी अनुसार इस पूरे सप्ताह बीच-बीच में बारिश होती रहेगी।बादल पूरा सप्ताह छाए रहेंगे। वहीं बीच-बीच बूंदाबांदी और रिमझिम के बीच अच्छी बारिश भी होती रहेगी। जिससे मौसम राहत भरा बना रहेगा। बीच में धूप निकलने पर उमस भी अपना रंग दिखएगी।
शेर-ए-कश्मीर कृषि विश्वविद्यालय के मौसम विशेषज्ञ डा. महेंद्र सिंह अनुसार वीरवार को भी बारिश की संभावना है। बारिश को देखते हुए सिंचाई एवं बाढ़ नियंत्रण विभाग ने भी लोगों को नदियों, नालों, दरियाओं और दूसरे जल स्रोतों से दूर रहने के लिए कहा है।वहीं जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर कई स्थानों पर भूस्खलन की भी चेतावनी जारी की गई है।
मौसम विज्ञान केंद्र, श्रीनगर अनुसार जम्मू में 5.8 एमएम, बनिहाल में 2.8, बटोत में 1.6 कटड़ा में 58.4 एमएम, भद्रवाह में 22.6 एमएम बारिश दर्ज की गई।श्रीनगर में 1.3, काजीगुंड में 30.4, पहलगाम में 3.4 एमएम, कुपवाड़ा में 1.5, कुकरनाग में 0.8, गुलमर्ग में 18.2 एमएम बारिश दर्ज की गई।
जम्मू का अधिकतम तापमान 36.6, न्यूनतम तापमान 24.7 डिग्री सेल्सियस रहा। जम्मू संभाग के दूसरे शहरों का तापमान इससे कम रहा। श्रीनगर का अधिकतम तापमान 33.7, न्यूनतम तापमान 21.5 डिग्री सेल्सियस रहा।

कहां रहा कितना तापमान

जम्मू 36.6 24.7
बनिहाल 29.6 19.0
बटोत 26.8 18.0
कटड़ा 31.7 22.4
भद्रवाह 32.5 17.5
श्रीनगर 33.7 21.5
काजीगुंड 31.8 18.0
पहलगाम 28.2 17.6
कुपवाड़ा 33.0 18.9
कोकरनाग 30.9 16.9
गुलमर्ग 18.0 15.5
तापमान डिग्री सेल्सियस में है।

LEAVE A REPLY