आपकी जानकारी के लिए बता दें कि खबर यह है कि बहुचर्चित अपहरण मामले में दिवंगत पूर्व मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद की बेटी और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती की बहन रूबिया सईद बुधवार को जम्मू के टाडा कोर्ट में पेश हुईं। कोर्ट ने रूबिया को 1989 में उनके अपहरण से संबंधित मामले के संबंध में जिरह के लिए पेश होने के लिए कहा था।
सीबीआई की वकील मोनिका कोहली ने बताया कि रूबिया सईद को आज जम्मू के टाडा कोर्ट में पेश किया गया। रूबिया की बाकी आरोपियों के साथ जिरह की गई है। अब आतंकी एवं प्रतिबंधित जम्मू.कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के प्रमुख यासीन मलिक से जिरह किया जाना बाकी है। यासीन मलिक को 20 अक्तूबर को दोबारा जिरह के लिए बुलाया जाएगा। कोर्ट ने तिहाड़ जेल से यासीन मलिक को पेश करने का आदेश दिया है। वह अपनी मांगों के अनुसार सुनवाई के लिए उपस्थित रहेगा।

कब हुआ था रूबिया का अपहरण

1989 में रूबिया सईद का अपहरण हो गया था। तब रूबिया को छोड़ने के लिए आतंकियों ने 5 आतंकियों को रिहा करने की मांग की थी। बाद में सरकार ने आतंकियों को छोड़ाए जिसके बाद आतंकियों ने रूबिया को छोड़ा था। मामले की जांच सीबीआई कर रही है। यह मामला अब टाडा कोर्ट में है। यासीन मलिक पर एयरफोर्स के 5 कर्मियों की हत्या का केस भी दर्ज है। यासीन मलिक को टेरर फंडिंग मामले में दिल्ली की विशेष अदालत में उम्रकैद की सजा सुनाई गई है।

LEAVE A REPLY