आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बड़ी खबर यह आ रही है कि केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर में अगले एक माह तक देश के अन्य राज्यों से दुधारू पशुओं को नहीं लाया जा सकेगा। प्रदेश के भीतर भी एक जिले से दूसरे जिले में दुधारू पशुओं को लाने.जाने पर भी रोक रहेगी। प्रदेश् सरकार ने यह पाबंदी दुधारू पशुओं में लंपी स्किन रोग के लगातार बढ़ते प्रकोप के मद्देनजर लगाया है। प्रतिबंध 25 अक्टूबर 2022 तक प्रभावी रहेगा। जम्मू कश्मीर में लंपी स्किन रोग से 38083 पशु प्रभावित हुए हैं । इनमें से 28169 उपचार के बाद ठीक हो गए हैं। लंपी स्किन बीमारी को फैलने से रोकने के लिए प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में दुधारू जानवरों में 213250 डोज दी जा चुकी हैं। हालांकि प्रशासन ने इस बीमारी से मरने वाले जानवरों का अधिकारिक ब्यौरा जारी नहीं कियाहैए लेकिन संबधित सूत्रों के मुताबिक लगभग दो हजार दुधारू पशु इस बीमारी से मारे गए हैं। प्रदेश प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि लंपी स्किन रोग को फैलने से रोकने के लिए सभी आवश्यक उपाय लागू किए जा रहे हैं।इसी सिलसिले में जम्मू कश्मीर में बाहर से दुधारू पशुओं के प्रवेश पर पूरी तरह से रोक लगाई गई है। इसके अलावा एक जिले से दूसरे जिले में भी दुधारू पशुओं को नहीं ले जाया जा सकता। प्रदेश प्रशासन ने यह फैसला पशुओं में संक्रामक और सांसर्गिक रोगों का निवारण एवं नियंत्रण अधिनियम 2009 के प्रविधान 10 के अंतर्गत प्रदत्त शक्तियों का उपयोग करते हुए लगाया है। उन्होंने बताया कि पशुपालन विभाग स्थिति की लगातार निगरानी कर रहा है और हालात के अनुरुप पाबंदी के आदेश की नियमित तौर पर समीक्षा की जाएगी।

LEAVE A REPLY